Wednesday, January 21, 2009

एक और पहेली | बूझो तो जाने ? का जवाब ......



वाह ! बहुत ही मजेदार रहा पहेली का जवाब | हिंट देने के बाद सब ने सही जवाब दिया | संगीता जी ने बिल्कुल सही कहा की मैंने काफ़ी अच्छी हिंट दे दी थी | खैर शाश्‍वत शेखर जी ने और हमेशा की तरह सीमा जी ने काफ़ी कुछ बता दिया है | बाकी कुछ बची हुई जानकारी मैं आपको दिया देता हूँ |

यह ४५ किलो मीटर देहरी तथा ३९ कम सासाराम से दूर अवस्थित है | कैमूर पहाडों के ऊपर ये अवस्थित है | मुस्लिम शासक के वास्तुशिल्प का सेंट्रल तथा दक्षिण एशिया में यह एक बेजोर नमूना है | शेरशाह सूरी ने इसे सुरक्षा कारणों से बनाया था | १५४१ में हुमायूं को हारने के बाद उसका विश्वास था की हुमायूं फिर से पलट कर वार करेगा | इसलिए उसने १२ दरवाजा युक्त ये किला बनवाया | वो १२ दरवाजों के नाम ऐसे हैं :
१: मोरी दरवाजा
२: शाह चानन वाली दरवाज़ा
३: तलाकी दरवाज़ा
४: शीश महल दरवाज़ा
५: लंगर खानी दरवाज़ा
६: बादशाही दरवाज़ा
७: काबली दरवाज़ा
८: गधे वाला दरवाज़ा
९: सोहल दरवाज़ा
१०: पीपल वाला दरवाज़ा
११: गुत्याली दरवाज़ा
१२: खवास खानी या सदर दरवाज़ा

इसकी मुख्य विशेषता यह थी की इसके दिवार ४ किलो मीटर तक फैले हुए थे जिसमे बड़े बड़े गुम्बज तथा अर्धवृताकार नकाशी की हुई थी | हाँ ये सब अब आपको कुछ देखने को नही मिलेगा | बहुत कुछ तो रख रखाव के आभाव में नष्ट होते चले गए | यह किला अब संगृहीत अवशेष antiquities एक्ट १९७५ के तहत department of archaeology के अन्दर आता है | और साथ में यह the World Heritage List, by UNESCO, के अन्दर १९९७ से है |
यहाँ पर क्लिक करके आप और जानकारी पा सकते हैं |

अब आईये देखते हैं हमारे आज के विजेता कौन हैं | उससे पहले जरा पाठको के उत्तर पर गौर करेंगे |
आज लगभग सभी ने सही जवाब दिया | सबसे पहले कुछ सही जवाब देखते हैं :

शाश्‍वत शेखर said...
मेरे ख्याल से रोहतास गढ का किला है।
January 20, 2009 11:44 AM
राज भाटिय़ा said...
चलिये हम शशवत जी की नकल मार कर इसे रोहतास गढ का किला बता देते है.
मां बाप का ध्यान जरुर रखे.
धन्यवाद
January 20, 2009 11:56 AM
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
ये शेरशाह सूरी द्वारा निर्मित रोह्तास फोर्ट का काबुली दरवाजा है........
January 20, 2009 12:15 PM
seema gupta said...

"The Rohtasgarh Fort located in Rohtas district is 45 km far from Dehri and 39 km away from Sasaram. This fort is situated on the top of the Kaimur Hills. It got its name from mythological character Rohitashwa, the son of King Harischandra. The king stayed in this fort in exile for several years realizing danger to his life. On the top of the hill the Fort is constructed on a plateau at a height of 1500 ft above the sea level. There are about 2000 limestone cut steps from the foothill to the top. After the end of these steps there is a gate which is the first gate to the fort. From this gate Rohtas Fort lies at a distance of 2km from this gate. The Rohats fort is an outstanding example of Mughal architectural style. Once one the largest and strongest fort in India now is in ruins.

History of Rohats Fort is very long and interesting. Although the exact origin of the Rohtas fort is lost in history, the earliest monuments here dated back to king Sashanka of seventh century AD. In mediaeval times this fort was captured by Prithviraj Chauhan. However this fort rose to prominence only after captured by Sher Shah Suri in 1539 from a Hindu king. During the Sher Shah's reign 10000-armed men guarded the fort. During Sher Shah rule a Jama Masjid was built in this complex by Haibat Khan a soldier of Sher Shah. This fort came under Man Singh, Akbar’s General in 1588. He built a palace for himself inside the fort complex which is known as Takhte Badshahi. He also built Aina Mahal a palace for his main wife and Hathiya Pol the main gate of the Fort. "
Regards
January 20, 2009 12:35 PM

PN Subramanian said...
शेरशाह द्वारा बनवाई गयी रोहतास का किला जो अब माओवादियों का अड्डा बना हुआ है.
January 20, 2009 12:36 PM
अल्पना वर्मा said...
अरे अमित कोई एक दिन तय करलिजीये.पहेली पूछने का तो मैं भी निश्चित तौर पर भाग लेने आ पाऊँगी.
वैसे अब पहुँची हूँ तो शश्वत शेखर जी के जवाब के साथ हूँ.
रोहतास गढ के किले का एक दरवाजा है। जिसे शेरशाह सुरी ने बनवाया था। वही शेरशाह जिसका मकबरा सासाराम मे है।
details to seema ji ne de hi din hain--
January 20, 2009 3:06 PM

mehek said...
hum bhi rohtak kila kehenge.
January 20, 2009 5:17 PM
संगीता पुरी said...
आपने ऐसी हिंट दे दी कि पहेली ही आसान हो गयी....गूगल सर्च में ढूंढ लें ..... fort in bihar ...... सबसे पहले नं पर शेरशाह का यह किला ही आ रहा है ..... खैर विजेताओं को बहुत बहुत बधाई।
January 20, 2009 7:07 PM
ताऊ रामपुरिया said...
अब यहां मान. सीमाजी और मान. अल्पना जी के जवाब क्रमश: आ ही चुके हैं तो जवाब तो रोहतासगढ का किला ही है.मैं आज मेरे शहर से बाहर हूं, इसलिये शाम को आया हूं, अगर यहां रोहतासगढ का नाम नही भी होता तो आपके हिंट के बाद मैं रोहतास गढ ही जवाब देता. उसका कारण मैं बता देता हूं और अन्य साथिउओं को भी जानना अच्छा लगेगा कि देवकीननदन खत्री जी ने चन्द्रकाता के बाद चन्द्रकांता संतति और फ़िर उसमे परिदृश्य रोहतासगढ किले का लिया था.
फ़िर बाद मे उन्होने रोहतासगढ के नाम से भी एक तिलस्मी उपन्यास लिखा था. मैने ये सभी उपन्यास पढे हैं तो बिहारे मे मेरे जेहन मे किले के नाम पर यही नाम था. खैर आपका जवाब आने पर पक्का करते हैं . वैसे अब शक की गुंजाईश ही नही छोडी गई है. :)
January 20, 2009 7:47 PM

मोहन वशिष्‍ठ said...
अरे भाई हम लेट हो गए वरना आज विजेता होते
यह हे बिहार का शेर शाह द्वारा सोलह‍वीं सदी में बनवाया गया रोहताश किला है
Rohtas Fort in Bihar, built by Sher Shah (1486-1545) and later used by travelling Mughals as a garrison, is in the iron grip of Maoist extremists and tourist traffic to the impressive structure has dried up.

January 20, 2009 8:24 PM

Shastri said...
जब इतने सारे लोग कह रहे हैं कि यह बिहार में है और रोहतास गढ के किले का एक दरवाजा है। जिसे शेरशाह सुरी ने बनवाया था तो इस फाटक की क्या हिम्मत है कि वह इसे मानने से इंकार कर दे. अत: मैं तो वही कहने जा रहा हूं जो "सर्व सम्मत" है !!
सस्नेह -- शास्त

हिमांशु said...
सर्वसम्मति में मेरी भी मति.
धन्यवाद.

अब जैसा की अल्पना जी ने कहा मैं उनके कहे को मानते हुए अब से हर मंगलवार को ही पहेली बुझाऊंगा |


इसके अलावा कुछ मजेदार तथा ज्ञानवर्धक बातें भी हमारे पीडी तथा शाश्‍वत शेखर जी के बीच हुई | जरा उसपर भी नज़र डालें |

PD said...

शाश्वत जी, मैं ज्यादा तो कुछ नहीं कहूंगा मगर ये जरूर कहूंगा कि विक्रमगंज में मैं भी 3 साल रहा हूं जो सासाराम का ही एक अनुमंडल है.. पिताजी के साथ यहां वहां घूमते हुये काफी कुछ भौगोलिक स्थिति का भी ज्ञान हो गया..
पिता जी प्रशासनिक अधिकारी थे और मध्य बिहार में रोहतास को छोड़कर और कहीं भी पोस्टिंग नहीं हुआ था.. यह बात तब की है जब रणवीर सेना और माले का बोलबाला था.. अपने पिताजी को विक्रमगंज में जितना परेशान होते देखा था उतना पूरे बिहार में घूमते हुये फिर कभी नहीं देखा.. जब कभी हम अकेले पटना की ओर रवाना होते थे तब उनकी जान अटकी होती थी और तभी चैन उनको आता था जब हमारे पटना पहूंचने की खबर उन्हें मिल जाती थी.. उस समय मोबाईल का भी जमाना नहीं था, जो उन्हें पल-पल कि खबर मिलती रहे..

शाश्‍वत शेखर said...
Prashant Ji,
आप यह भी अच्छी तरह जानते होंगे की कुछ राजनितिक दल के लोग सारी गुंडागर्दी रणवीर सेना और माओवादियों के नाम से करते थे, खासतौर पर सरकारी कर्मचारियों पर, कारण आप जानते होंगे| इन सब घटनाओं पर अब रोक लग चुकी है| आम जनता का समर्थन इन दलों के साथ जरुर था, माओवादियों के साथ नही| जहानाबाद, गया में असली माओवादी थे, ये समस्या अभी भी है, सुधार अवश्य आया है|
रोहतास में अभी वैसा बिल्कुल भी नही है| बिहार में जो कुछ भी नया हो रहा है उसके बारे में पढ़ें तो स्थिति का पता चलेगा| उससे अच्छा होगा की किसी बिहारी जो बिहार में हो बात करें| दुर्दशा भूल जाएँ, विकास को महसूस करें| कुछ तथ्य मैं आपको दूंगा थोडी देर में|

PD said...

अरे विक्रमगंज जिला बन गया.. लगता है सच में मुझे बहुत कुछ नहीं पता है और काफी कुछ बदल गया है.. उस समय विक्रमगंज सासाराम का एक अनुमंडल हुआ करता था जिसके अंदर में आठ प्रमंडल हुआ करते थे.. सासाराम जिले के अंदर तीन अनुमंडल थे.. विक्रगंज, डेहरी-ऑन-सोन और सासाराम..
खैर लगता है आपसे बहुत जानकारी मिलने वाली है.. इंतजार है.. :)



इनके अलावा भी हमारा उत्साह वर्धन अरविन्द जी, विनय जी, प्रीती जी , सुशिल जी, प्रदीप जी , विनीता जी , रंजना जी , राजीव जी, हरी जी ने किया | मैं इन सब का शुक्रगुजार हूँ |





अब जरा मेरिट लिस्ट पर नज़र डाले ...
१) शाश्‍वत शेखर जी
२) राज भाटिय़ा जी
३) Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" जी
४) सीमा गुप्ता जी
५) पी सुब्रमनियन जी
६)अल्पना वर्मा जी



आज का स्पेशल मेरिट अवार्ड समझ में नही आ रहा था किसका नाम लिखूं | दो लोगो के बीच टाई हो गया था | और हमेशा की तरह सीमा जी ने जो जानकारी दी वो सही में पुरी जानकारी थी | इसलिए स्पेशल मेरिट अवार्ड भी सीमा जी को ही जाता है |

16 comments:

seema gupta said...

विजेताओं को बहुत बहुत बधाई।

Regards

अल्पना वर्मा said...

vijetaon ko badhayee..ab har mangalwaar intzaar rahega.
aap ne jo vivaran diya hai aur kilon ke itne darwajon ke baare mein bataya hai.achcha gyan mila.ab yah nahin kah saktey ki blogging mein hamara samay proper use nahin hota--dekho kitna seekh rahey hain--
[waise in darwajon ke naam badey jabardast rakhey they..jarur in ka bhi karan raha hoga--gadhey wala darwaja--talaki darwaj---:)
waise aaj ke special merit aap Seema ji ke saath saath-Shaswat shekhar ji aur PD ko bhi de saktey they kyonki asali mein yah paheli sab se pahle shekhar ji ne suljhayee thi--aur kuchh bhrm bhi duur kiye.-PD ne hindi kuch nayi jaankari din.dhnywaad.

संगीता पुरी said...

.....विजेताओं को बहुत बहुत बधाई।

शाश्‍वत शेखर said...

अमित भाई, सबसे पहले इस किले को पहेली में शामिल करने का शुक्रिया| अब आज जीते हैं तो इन्तेजार रहेगा अगले मंगलवार का| :)

रंजना [रंजू भाटिया] said...

जीतने वालों को बहुत बहुत बधाई

Udan Tashtari said...

सबको बधाई...हमें तो पता ही नहीं चला कि कब पूछ कर निकल लिए.

Zakir Ali 'Rajneesh' (S.B.A.I.) said...

क्‍या बात है, चारों ओर पहेलियों का साम्राज्‍य छाया हुआ है। विजेताओं को बहुत बहुत बधाई।

mamta said...

सही जवाब बताने वालों को बधाई ।

Nirmla Kapila said...

amitji aise lagta hai jese fir school me daakhila lena padegaa aap to bahut kathin svaal poochhte hain main to bas vijetaaon ko bdhaai hi de sakti hoon

ताऊ रामपुरिया said...

विजेताओं को बधाई. बहुत सराहनिय है ये.

रामराम.

BrijmohanShrivastava said...

जानकारी के लिए धन्यवाद

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

मुझ सहित बाकी सभी विजेताओं को भी बहुत बहुत बधाई..........

हिमांशु said...

सभी विजेताओं को बधाई.

मोहन वशिष्‍ठ said...

बधाईयां जी बधाईयां सारेया नूं लख लख बधाईयां मेरे कोल मुझ सहित

राज भाटिय़ा said...

अरे बाबा हम दुसरे ना० पर जिन्दगी मै पहली बार आय्रे, ओर वो भी नकल मार कर, आप की यह साईट मेरे यहा आज ही खुली, दो दिन से बहुत सी साईटे खुल नही रही , पता नही क्यो.
सभी विजेतो को बधाई

उपाध्यायजी(Upadhyayjee) said...

अमित भाई,
सबसे पहले तो बधाई कि आपने रोहतास के बारे मे बताने का प्रयास किया। लेकिन अफ़सोस कि बात ये है कि जो फोटो आपने डाली है वो फोटो रोहतासगढ़ जो कि कैमुर पहाड़ पर है उसका नहीं है। ये फोटो शेरशाह द्वारा निर्मित रोहतास का किला है को कि पाकिस्तान मे है। क्रुपया अपने पाठकों को ये फिर से संदेश दें कि फोटो मे दिखाया गया किला पाकिस्तान मे अवस्थित रोहतास का किला है।
मैं भी रोहतास जिला का रहने वाला हुं।
http://gaon-dehaat.blogspot.com

अब हमे भी मिलना चाहिए पुरस्कार।