Thursday, January 22, 2009

मैं बेचारा , काम के बोझ तले मारा ..



उफ्फ ये काम , काम और केवल काम | आजकल हमारी वयस्तता का आलम मत पूछिए | नया प्रोजेक्ट , नई टेक्नोलॉजी , सारी जिम्मेवारी हम पर मतलब अमित बाबू की तो बाट लगी हुई है | सही में बहुत बुरा हाल है | किसी तरह कुछ समय निकाल पाता हूँ ताकि कुछ ब्लॉग पढ़ सकूँ और टिप्पिन्नी भी कर सकूँ | आजकल ब्लॉग्गिंग में सक्रियता बिल्कुल आधी हो गई है | जब ब्लॉग लिखना शुरू किया था , जयादा नही दिसम्बर-२००८ में तब एक प्रोजेक्ट ख़तम हुआ था और उसके बाद कोई ख़ास काम नही था | बस बहुत दिनों से अपनी अंतर्मन की ख्वाइश को अमलीजामा पहना दिया था | डर तब भी लगा था की मैं सक्रिय रह पाऊंगा की नही | खैर कुछ दिन ये काम का बोझ रहेगा | तब तक शायद मैं उतना सक्रिय ना रह पाऊं | पर हाँ हरेक मंगलवार को आपको एक पहेली जरुर मिलेगी यहाँ | और समय निकाल कर मैं नए पोस्ट भी लिखता रहूँगा |

अभी तो इस सप्ताह का पुरा कार्यक्रम निश्चित हो गया है | शुक्रवार को हमारे कॉलेज की एक मित्र की शादी है | शादी के लिए हमें वेल्लोर जाना है | वेल्लोर चेन्नई से नही कुछ तो ३ घंटे का रास्ता है | फिर शादी के बाद हम बंगलोर हो लेंगे | २६ तक बंगलोर में अपना डेरा जमेगा | फिर वापस "बैक टू पवेलियन "| बंगलोर का कार्यक्रम बंगलोर में तय किया जायेगा | २६ जनवरी की छुट्टी सोमवार को हो जाने के कारण काफ़ी लंबा सप्ताहंत हो जाता है | इसलिए लगभग सब लोग विशेषकर आईटी कंपनी के लोग कहीं न कहीं घूमने निकल जाते हैं | इतनी जायदा भीड़ हो जाती ई की मत पूछिए | आज सुबह सुबह ८ बजे से रेलवे टिकेट की बुकिंग के लिए कोशिश कर रहा था | लेकिन क्या मजाल था की साईट खुल जाएँ | १ घंटे की जदोजेहत के बाद अंत में मैंने हथियार डाल दिए|

बड़ा दुःख होता है ऐसा देखकर | अब भी हमारी सरकार वही पुराना ढर्रा अपना रही है | अब भी वही पुरानी टेक्नोलॉजी अपनाए हुई है | रेलवे जिसका उपयोग भारत का हर आदमी करता है , जो की भारत की आवागमन सुविधा की आन है कम से कम उसे तो आप नए टेक्नोलॉजी से लैश कीजिये | कुछ यूजर क्या बढ जाते हैं रेलवे का सर्वर काम करना बंद कर देता है | लालू जी जापान से आए और बोले की बुल्लेट ट्रेन अब इंडिया में भी चलेगी | इससे अच्छी बात क्या हो सकती है | ३००-४०० किलो मीटर प्रति घंटे के रफ़्तार से चलने वाला ट्रेन , सही में दूरियां नजदीकियां बन जायेंगी | तब तो साप्ताहांत में हम अपने घर भी जा सकते हैं | वाह लालू जी , लेकिन सिर्फ़ कहे मत इसे अमलीजामा भी पहनाये | और उससे भी जायदा जरुरी है infrastructure को ठीक करने की | जो है कम से कम उसे इस लायक तो बनाइये की वो अच्छे से ,ढंग से काम कर सके |

उम्मीद पर ही दुनिया टिकी हुई है और हम भी यही चाहते हैं की भारत लगातार प्रगति के पथ पर अग्रसर रहे | गणतंत्र दिवस पर आप सबों को ढेर सारी शुभकामनाएं |

27 comments:

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

तुम्हे चाहिए सिंकारा हम दर्द का सिंकारा , डिंग डोंग

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत बढिया जी. इन्तजार करते हैं आपकी पहेली का. रामराम.

Tarun said...

उम्मीद पर दुनिया टीकी है तुम भी टीके रहो लेकिन जहाँ घुमने जा रहे हो वहाँ मत टीके रह जाना

विनय said...

वाह साहब ख़ूब!


---आपका हार्दिक स्वागत है
चाँद, बादल और शाम

Udan Tashtari said...

बेहतरीन!!

गणतंत्र दिवस पर आपको भी ढेर सारी शुभकामनाएं.

PN Subramanian said...

वेल्लॉर के पास ही एक भव्य स्वर्ण मंदिर बना है. पुर सोने का. चूकिए मत, देख आइए और बताइए.आभार.

शाश्‍वत शेखर said...

भाई काम तो लगा ही रहेगा| टाइम निकाल के ब्लोगिया लिया कीजिये|

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर ....गणतंत्र दिवस पर आप सबों को ढेर सारी शुभकामनाएं |

seema gupta said...

गणतंत्र दिवस पर आपको भी ढेर सारी शुभकामनाएं

Regards

sukhdeo sahitya said...

आपका जोश- खरोश कभी खतम होने वाला नहीं . आप से बहुत उम्मीदें बंधी हैं, इसी बुलंदी के साथ हम सबों को भी तरोताजा बनाते रहें। धन्यवाद
लालू की गाड़ी जरूर दौड़ेगी, आगे के दिनों में हमलोग बहुत कुछ देखेंगे।

RAJIV MAHESHWARI said...

गणतंत्र दिवस पर आपको भी ढेर सारी शुभकामनाएं
आप की वापसी का इन्तजार रहेगा .

सुशील कुमार छौक्कर said...

भागती दोडती दुनिया.....। फोटो अच्छा लगा।

makrand said...

bahut khub
गणतंत्र दिवस पर आपको भी ढेर सारी शुभकामनाएं.

mamta said...

पहेली का इंतजार रहेगा ।
और हाँ आपको भी गणतंत्र दिवस की शुभकामना ।

आशुतोष दुबे "सादिक" said...

गणतंत्र दिवस पर आपको ढेर सारी शुभकामनाएं

Gagagn Sharma, Kuchh Alag sa said...

कुछ लेते क्यों नहीं :-)

डॉ .अनुराग said...

उम्मीद पर कायम rahiye .......यही इस duniya को chalaaye हुए है vaise baat sahi hai....

कुछ लेते क्यों नहीं :-)

विनीता यशस्वी said...

Picture bahut achhe hai.

Waise aap kuchh lete ku nahi ???

विवेक सिंह said...

बहुत सुंदर ....गणतंत्र दिवस पर आप सबों को ढेर सारी शुभकामनाएं |

अल्पना वर्मा said...

gantantr diwas ki shubhkamnayen.
-aur paheli ke liye ham bhi aatey rahengey--aap apni vystta mein vyst raheeye -koi baat nahin--

tasweer dekhtey hue----waise itni buri haalat bhi nahin hogi ki zameen se ukhad gaye hongey!!!!!!!!:D

प्रदीप मानोरिया said...

यथार्थ और सार्थक आलेख
प्रदीप मनोरिया 09425132060
http://manoria.blogspot.com
http://kundkundkahan.blogspot.com

chopal said...

व्यस्तता का आलम न पूछिए, कंप्यूटर के सामन बैठे रहते हैं पर ब्लाग पर टिप्पणी करने का समय ही नहीं मिल पाता। आपका लेख अन्छा लगा।

G M Rajesh said...

happy Republic day
to you too

Krishna Patel said...

bahut achchha likha apne.
happy republic day.

purnima said...

गणतंत्र दिवस पर आप को हार्दिक शुभ कामना .
आपका लिखा लेख अच्छा हें

मोहन वशिष्‍ठ said...

गणतंत्र दिवस की आप सभी को ढेर सारी शुभकामनाएं

http://mohanbaghola.blogspot.com/2009/01/blog-post.html

इस लिंक पर पढें गणतंत्र दिवस पर विशेष मेरे मन की बात नामक पोस्‍ट और मेरा उत्‍साहवर्धन करें

राज भाटिय़ा said...

कोन बेचारा, नीचे वाला या फ़िर ऊपर वाला??