Thursday, February 19, 2009

क्या देखा है ऐसा कभी ?

कहत्ते हैं काम कोई छोटा बड़ा नही होता बस अपना अपना नजरिया होता है | आप जो कर रहे हैं उसी में खुश रहिये | और इस बन्दे को देखिये ये भी अपने काम में मस्त है ! आपने कभी अपने दुपहिया वाहन को बाहर पार्सल किया है ? अजी तो आज देख लीजिए | आपने बहुत कुलियों को देखा होगा जो भारी से भारी सामान उठाते हैं | पर ऐसा आप पहली बार देख रहे होंगे .........

दुपहिया वाहन सामान्यतः ट्रेन से लोग बेझते हैं | लकिन रात में चलने वाली वोल्वो बस भी इसे ले जाती हैं | लेकिन वोल्वो बस में नीचे स्पेस होता है जहाँ आराम से दुपहिया मोटर वाहन को दाल दिया जाता है | लेकिन अगर जगह ना हो तो .........




















जी हाँ ऐसे .....ये तस्वीर बंगलोर के कलासी पालयम बस स्टैंड की है.....ये बंदा महज़ २० रूपये में ये काम डेली करता है | २०० केजी की गाड़ी को ये ऐसे चढाता है जैसे कोई खिलौना हो....इसका नाम तो मुझे नही मालुम लेकिन आप जब भी कलासिपलाय्म जायेंगे ये आपको जरुर मिल जायेगा |

24 comments:

Nirmla Kapila said...

vah kamaal ki post hai kya camera saath hi rehta hai

अनिल कान्त : said...

बहुत सही तरह से प्रस्तुत किया है आपने ...मुझे तो आश्चर्य हुआ बहुत

मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

prabhat gopal said...

amit badi khoji reporting karte ho yar. camera ka acha istemal hai
congrats

रंजना [रंजू भाटिया] said...

कमाल है इतनी भारी बाइक इतने आराम से .आपने भी कमाल के फोटो लिए हैं

अल्पना वर्मा said...

maan gaye!
is vyakti par kisi tonic wali company ki nazar nahin padi??wo advert ke liye le jaatey..ya phir..kisi pahalwaaan trainer ki ---is vyakti ki is quality ko sahi jagah istmaal karna chaeeye.

yah sach mein unique hai.
is vyaktike baare mine aur pictures aap Zee tv ke programme ko kyun nahin bhej detey??

प्रीति टेलर said...

papi pet ka saval hai ..ye pet insaanko kya kya karta hai .....khair lagta hai aaj tak motorcyclene insaan ka boj uthaya hai ,aaj kuchh ulta hua hai....

seema gupta said...

"amezing............"

regards

Amit said...

alpna jee...Next time bangalore gaya to iske baare main aur jayada jaankaari lunga..phir ho sakega to bejhunga....

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

ग़जब. इनके साहस को सलाम.

डॉ .अनुराग said...

कमाल के फोटुवा है भाई.......ओर कमाल का सर है.....कंधे तो क्या कहे .....

विनीता यशस्वी said...

Kamal ka banda hai... kaaml ki pictures apne dikhayi...

poemsnpuja said...

अद्भुत चित्र है...कहते हैं न जिंदगी कभी कभी कभी कल्पना से ज्यादा आश्चर्यजनक होती है.

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

paisa jo na karaye kam hae

सुशील कुमार छौक्कर said...

कमाल के फोटो। कमाल का काम।

अभिषेक ओझा said...

!!!

Anonymous said...

२० रूपये इस काम के लिए कम हैं, कम से कम ५० रूपये देने चाहिए

Mumukshh Ki Rachanain said...

भाई जी,
आपने जो प्रस्तुत किया, निःसंदेह गाडी को भेजने वाले की ही नही बल्कि चढाने वाले की मजबूरी को प्रर्दशित करता है.
इतने मुश्किल काम को सहज रूप से इतने काम पैसे में अंजाम देने के लिए उस अनाम को मेरा सलाम, पर यह सच है कि वास्तविक ज्ञानी, वास्तविक कर्मयोगी, कभी भी अपने कर्म को पैसे से नही बल्कि इन्सान की सहूलियत से तौलता है और इसी में उसे जो खुसी प्राप्त होती है वही उसका सच्छा पारिश्रमिक है.

आसानी से रिश्वत लेकर, लोगों को डरा कर, आतंकवाद फैला कर, कानून का डर बता कर, आदि - आदि तरह से धन कमाने वालों को इससे कुछ सबक मिलेगा, मुझे संदेह है.

चन्द्र मोहन गुप्त

Mumukshh Ki Rachanain said...

भाई जी,
आपने जो प्रस्तुत किया, निःसंदेह गाडी को भेजने वाले की ही नही बल्कि चढाने वाले की मजबूरी को प्रर्दशित करता है.
इतने मुश्किल काम को सहज रूप से इतने काम पैसे में अंजाम देने के लिए उस अनाम को मेरा सलाम, पर यह सच है कि वास्तविक ज्ञानी, वास्तविक कर्मयोगी, कभी भी अपने कर्म को पैसे से नही बल्कि इन्सान की सहूलियत से तौलता है और इसी में उसे जो खुसी प्राप्त होती है वही उसका सच्छा पारिश्रमिक है.

आसानी से रिश्वत लेकर, लोगों को डरा कर, आतंकवाद फैला कर, कानून का डर बता कर, आदि - आदि तरह से धन कमाने वालों को इससे कुछ सबक मिलेगा, मुझे संदेह है.

चन्द्र मोहन गुप्त

कुश said...

आईला ये क्या है.. ग़ज़ब... गाड़ी बस में तो सकुशल चढ़ गयी.. पर मंज़िल पर भी सकुशल पहुचेगी या नही..

mamta said...

कमाल है ऐसा भी होता है !!

आलोक सिंह said...

ऐसी साहसी पुरूष को सलाम है .

राज भाटिय़ा said...

वाह कमाल है, जबर्दस्त.
धन्यवाद

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

ई तो कमाल हो गया भैया!

Web Designers Pitampura said...

I really appreciate your professional approach. These are pieces of very useful information that will be of great use for me in future.